Gathered Political

दिल्ली-NCR की हवा हुई जहरीली, सांस लेना हुआ मुश्किल, जानें ये है वजह

NCR
NCR

जब आप सुबह उठकर आसमान में देखते हैं, तो आपको चारों तरफ धुंध नजर आती है. धुंध इतनी बढ़ गई है कि कहीं भी धूप नजर नहीं आ रही है. दिल्ली-NCR की हवा में प्रदूषण का असर बढ़ता जा रहा है. पंजाब-हरियाणा में पराली जलाने की घटनाओं में भारी बढ़ोतरी के बाद दिल्ली में प्रदूषण का स्तर खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है. वहीं दिल्ली की जहरीली हो चुकी हवा ने लोगों को मुंह पर मास्क लगाने को मजबूर कर दिया है. हवा में जहर घुलने से कई बीमारियों के होने का खतरा भी बढ़ गया है.

ये भी पढ़ें- कश्मीर में 370 हटने के बाद सबसे बड़ा हमला, आतंकियों ने 5 मजदूरों को बनाया निशाना

 जानें कहां कितना प्रदूषण

दिल्ली की हवा में इतना जहर घुल गया है कि इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि  मंगलवार को AQI 400 तक दर्ज किया गया था. सुबह आठ बजे दिल्ली के आरके पुरम में पीएम 2.5 192 और पीएम 10 167 दर्ज किया गया. जबकि नोए़डा में PM 2.5 312 और PM 10 276 रहा. वहीं गाजियाबाद में पीएम 2.5 का स्तर 381 और पीएम 10 का स्तर 339 तक जा पहुंचा. गाजियाबाद का पलूशन लेवल 446 और नोएडा का 439 तक पहुंच गया है. दिल्ली से भी ज्यादा नोएडा और गाजियाबाद वायु प्रदूषण से प्रभावित हैं. वहीं बुधवार की सुबह दिल्ली के मंदिर मार्ग में एयर क्वालिटी इंडेक्स जहां 304 रहा, वहीं अरविंदो मार्ग पर ये आकंडा 309 तक पहुंच गया है.

सफर इंडिया की रिपोर्ट

वहीं सफर इंडिया रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दौरान पंजाब और हरियाणा में पराली जलने की घटनाएं 1654 से बढ़कर 2577 पहुंच गई हैं. इसके अलावा हवा के बहने की दिशा दिल्ली की तरफ हैं, इसलिए प्रदूषण  बढ़ रहा है.साथ ही 1 नवंबर को हवा की दिशा बदल सकती है जिस से वायु प्रदूषण में कमी आ सकती है.

बीमारियां बढ़ी

वायु प्रदूषण के कारण कई बीमारियां दस्तक दे रही हैं. लोगों को हृदय से जुड़ी बीमारियां, अस्थमा के लक्षण, सांस लेने में दिक्क्त, फेफड़ों में इंफेक्शन बढ़ने लगे हैं. वहीं दिवाली के बाद प्रदूषण में बढ़ोतरी होने से अस्पतालों में सांस की बीमारियों से पीड़ित लोगों की संख्या 20-25 फीसदी तक बढ़ गई है.

About the author

Tarun Phore

न मैं आस्तिक... न मैं नास्तिक...बातें करूं मैं Sarcastic...अपनी अलग दुनिया में मस्त... सवाल पूछना अच्छा लगता है, इसलिए नहीं पत्रकार हूं...इसलिए क्योंकि सवाल तुम्हें भेड़चाल से अलग बनाते है...तभी मैं हर मुद्दे पर बेबाक तरीके से तर्क रखता हूं...बाकि जजमेंटल बिल्कुल नहीं हूं...सोच को दबाता नहीं बल्कि उठाता हूं.

Follow

Advertisement

Log in

Forgot password?

Forgot password?

Enter your account data and we will send you a link to reset your password.

Your password reset link appears to be invalid or expired.

Log in

Privacy Policy