City News Gathered

शर्मनाक: सब्जी चोरी के आरोप में 2 बहनों को पेड़ से बांधकर पीटा, चोटी भी काटी

महिलाओं की पिटाई
महिलाओं की पिटाई

इंसानियत हुई शर्मसार,बर्बरता की हद पार

झारखंड की राजधानी रांची के बुढ़मू में सोमवार को एक शर्मनाक घटना हुई. ठाकुरगांव थाना क्षेत्र में सब्जी चोरी के आरोप में ग्रामीणों ने सोबा गांव में दो सगी बहनों सालो देवी और बालो देवी को पेड़ से बांधकर जमकर पीटा. इसपर भी जब ग्रामीणों का मन नहीं भरा, तो मानवीय संवेदनाओं को ताक में रखते हुए, दोनों महिलाओं के बाल काट डाले. भीड़ उन्हें मार डालने पर उतारू थी. फिलहाल, गंभीर हालत में दोनों बहनों को रिम्स में भर्ती कराया गया है. घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने मामले में 19 नामजद और दो दर्जन अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है.

Click here to know: श्मशान घाट के लिए दलितों को नहीं दिया रास्ता

चोरी की अफवाह उड़ाई

ये दोनों बहनें सब्जी का कारोबार करती है. दोनों बहनें उमेडंडा हाट से सब्जी खरीदकर घर वापस लौट रही थीं. तभी ऑटो खराब होने पर दोनों सोबा गांव में ही रुक गईं. तभी किसी ने अफवाह फैला दी कि दोनों महिलाएं खेत से सब्जी चुराकर जा रही हैं. जिसके बाद ग्रामीण आग बबूला हो गए तभी ग्रामीणों ने पीछा कर दोनों बहनों को रातू चट्टी बाजार में पकड़ लिया. इसके बाद मारपीट करते हुए दोनों को सोबा गांव ले आए.

पुलिस ने बचाया

ग्रामीणों ने दोनों बहनों की पेड़ से बांधकर जमकर पिटाई की. इसी दौरान सूचना पाकर ठाकुरगांव के ग्रामीण भी पहुंचे और पिटाई करते हुए दोनों को अधमरा कर दिया. सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची और महिलाओं को भीड़ से छुड़ाते हुए इलाज के लिए भर्ती करवाया.

थाना प्रभारी के मुताबिक

वहीं थाना प्रभारी नवीन कुमार के मुताबिक इस मामले की छानबीन की जा रही है, पर मामला संज्ञान में आने से पूर्व किसी भी किसान या व्यापारी द्वारा खेत या घर से सब्जी चोरी होने का कोई मामला थाने में दर्ज नहीं कराया गया था. ग्रामीणों के अनुसार वे खेतों से फसल चोरी की घटना से परेशान हैं.

About the author

Tarun Phore

न मैं आस्तिक... न मैं नास्तिक...बातें करूं मैं Sarcastic...अपनी अलग दुनिया में मस्त... सवाल पूछना अच्छा लगता है, इसलिए नहीं पत्रकार हूं...इसलिए क्योंकि सवाल तुम्हें भेड़चाल से अलग बनाते है...तभी मैं हर मुद्दे पर बेबाक तरीके से तर्क रखता हूं...बाकि जजमेंटल बिल्कुल नहीं हूं...सोच को दबाता नहीं बल्कि उठाता हूं.