Crime Gathered

गे-पार्टनर से धोखा मिलने पर युवक पहुंचा हाईकोर्ट, 8 साल से थे शारीरिक संबंध

कोर्ट
कोर्ट

बिहार के छपरा में एक युवक ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया और अपने समलैंगिक पार्टनर पर धोखे का आरोप लगाया है . श्रवण कुमार ने कहा कि पिछले 8 साल से पटना से एक युवक उसके साथ शारीरिक संबंध बना रहा था और समलैंगिकता के आधार पर उससे विवाह करने की बात भी कह रहा था. लेकिन कुछ दिन पहले ही उस युवक ने कहीं और शादी कर ली. साथ ही आरोपी ने श्रवण कुमार से दूरी बना ली. इस पर श्रवण कुमार ने आपत्ति जताते हुए झारखंड हाई कोर्ट के सामने न्याय की गुहार लगाई है. वहीं आरोपी बिहार में सरकारी नौकरी पर है. पीड़ित ने बताया कि आरोपी से मेरी मुलाकात एक ट्रेन में हुई थी. इसके बाद हम दोनों ने आपसी सहमति से पार्टनर की तरह रहने का फैसला किया था और एक साथ रह रहे थे.

पीड़ित ने कहा कि आरोपी ने उसके साथ 8 साल से शारीरिक संबंध बनाएं थे. लेकिन शादी के बाद आरोपी ने उसे घर से निकाल दिया. इसके बाद आरोपी जहां काम करता है, उसी के आस-पास पीड़ित को कमरा दिलवा दिया. लेकिन पिछले काफी दिन से आरोपी श्रवण कुमार से मुलाकात करने नहीं आ रहा था. श्रवण कुमार ने कहा इस पूरी घटना की जानकारी उसने आरोपी के घर वालों को भी दी, लेकिन उसके घर वाले पीड़ित को धमकाने लगे. श्रवण कुमार ने कहा कि आरोपी के घर वालों ने कहा कि इसकी जानकारी किसी को भी दी, तो उसे जिंदगी से हाथ धोना पड़ेगा. जिसके बाद पीड़ित ने आरोपी के खिलाफ झारखंड हाईकोर्ट में मुकदमा दर्ज करवाने का फैसला किया.

इसी के चलते श्रवण कुमार ने बुधवार सुबह न्याय की गुहार लगाते हुए झारंखड हाईकोर्ट पहुंच गया और बाहर खड़ा रहा. लेकिन बाद में उच्च न्यायालय में तैनात सुरक्षाकर्मियों ने उसे रांची सिविल कोर्ट भेज दिया. वहीं श्रवण कुमार का कहना है, ‘मेरे साथ धोखा हुआ है. मेरी जान को भी खतरा है. मैं ने पहले आत्महत्या करने का मन बनाया था, लेकिन अब जब आईपीसी की धारा 377 हट गई है, तो जो साक्ष्य हैं, उनके आधार पर कोर्ट में कानूनी लड़ाई लड़ूंगा.

About the author

Tarun Phore

न मैं आस्तिक... न मैं नास्तिक...बातें करूं मैं Sarcastic...अपनी अलग दुनिया में मस्त... सवाल पूछना अच्छा लगता है, इसलिए नहीं पत्रकार हूं...इसलिए क्योंकि सवाल तुम्हें भेड़चाल से अलग बनाते है...तभी मैं हर मुद्दे पर बेबाक तरीके से तर्क रखता हूं...बाकि जजमेंटल बिल्कुल नहीं हूं...सोच को दबाता नहीं बल्कि उठाता हूं.

Follow

Advertisement

Log in

Forgot password?

Forgot password?

Enter your account data and we will send you a link to reset your password.

Your password reset link appears to be invalid or expired.

Log in

Privacy Policy