International Observed

इमरान ने माना पाकिस्तान ने ही बोया आतंकवाद का बीज, जिहादियों को दी पाक ने ट्रेनिंग

इमरान खान
इमरान खान

इमरान का आतंकवाद पर सबसे बड़ा खुलासा

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान एक के बाद एक की हुई नापाक करतूतों को कबूल कर रहे हैं. अब इमरान खान ने कबूल किया है कि 1980 में अफगानिस्तान में रूस (तत्कालीन सोवियत संघ) के खिलाफ लड़ने के लिए पाकिस्तान ने जेहादियों को तैयार किया था. रूस के अंग्रेजी न्यूज चैनल RT को दिए इंटरव्यू में पाक पीएम ने ये कबूल किया है. इस इंटरव्यू में इमरान खान अमेरिका पर भी भड़के. उन्होंने अमेरिका पर आरोप लगाते हुए कहा कि शीतयुद्ध के उस दौर में रूस के खिलाफ पाकिस्तान ने अमेरिका की मदद की थी. जेहादियों को लड़ने के लिए ट्रेनिंग दी थी,  लेकिन इसके बावजूद अब अमेरिका, पाकिस्ताान पर आरोप लगा रहा है. पाक  पर अब आतंकवाद को बढ़ावा देने का आरोप लग रहा है.

इमरान ने कहा- 70 हजार लोगों को खोया

पाक पीएम के मुताबिक अब एक दशक बाद जब अमेरिकी अफगानिस्तान में आए, तो ये जिहाद नहीं आतंकवाद हो गया. यह बड़ी विडंबना है, मुझे लगता है कि पाकिस्तान को न्यूट्रल रहना चाहिए था. क्योंकि इन संगठनों में शामिल होना हमारे लिए नुकसानदेह साबित हुआ और हमने अपने 70 हजार लोगों को खो दिया. हमें 100 अरब डॉलर का आर्थिक नुकसान हुआ. ‘ इमरान ने कहा कि अंत में अमेरिकियों ने पाकिस्तान को नाकामी का सेहरा पहना दिया. ‘ये पाकिस्तान के साथ बहुत बुरा हुआ.’

CIA ने दिया जेहादियों को तैयार करने का पैसा

पाक पीएम ने बताया कि 1980 के दशक में पाकिस्तान मुजाहिद्दीन लोगों को ट्रेनिंग दे रहा था, ताकि जब सोवियत यूनियन,  अफगानिस्तान पर कब्जा करेगा तो वो उनके खिलाफ जेहाद का एलान करे देंगे. इन लोगों को ट्रेनिंग देने के लिए पाकिस्तान को पैसा अमेरिका की एजेंसी सीआइए की ओर से दिया गया था. लेकिन अमेरिका का नजरिया एक दशक बाद बिल्कुल बदल गया है. अमेरिका, अफगानिस्तान में आया तो उसने उन्हीं समूहों को जो पाकिस्तान में थे,  जेहादी से आतंकवादी होने का नाम दे दिया. अब इसे क्या् कहा जा सकता है.

इमरान- हम खतरनाक देश नहीं होते

– इमरान ने कहा कि वॉशिंगटन के युद्ध में शामिल होने पर इस्लामाबाद को बहुत नुकसान पहुंचा. उन्होंने कहा कि हमें 9/11 के बाद हमें अमेरिकी युद्ध में शामिल नहीं होना था, अगर ऐसा नहीं होता तो हम खतरनाक देश नहीं होते.

 पाकिस्तान का अमेरिका से मोहभंग

बतादें कि कभी अमेरिका के साथ दोस्ती निभाने वाले पाक का आज मोहभंग हो गया है. क्योंकि जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटने के बाद पाकिस्तान कई देशों के दरवाजा खटखटा चुका है लेकिन हर जगह मुंहकी खानी पड़ी. इमरान खान ने अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप से भी इस बारे में बात की थी. लेकिन इसके बाद फ्रांस में प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात के दौरान ट्रंप ने भी कहा कि ये भारत का आंतरिक मामला हैं और पीएम मोदी जो भी करेंगे बहुत अच्छा होगा.

About the author

Tarun Phore

न मैं आस्तिक... न मैं नास्तिक...बातें करूं मैं Sarcastic...अपनी अलग दुनिया में मस्त... सवाल पूछना अच्छा लगता है, इसलिए नहीं पत्रकार हूं...इसलिए क्योंकि सवाल तुम्हें भेड़चाल से अलग बनाते है...तभी मैं हर मुद्दे पर बेबाक तरीके से तर्क रखता हूं...बाकि जजमेंटल बिल्कुल नहीं हूं...सोच को दबाता नहीं बल्कि उठाता हूं.

Follow

Advertisement

Log in

Forgot password?

Forgot password?

Enter your account data and we will send you a link to reset your password.

Your password reset link appears to be invalid or expired.

Log in

Privacy Policy