City News Gathered

बिहार- केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे पर फेंकी स्याही, डेंगू के मरीजों को देखने गए थे अस्पताल

केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे
केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अश्विनी चौबे पटना मेडिकल कॉलेज ऐंड हॉस्पिटल पीएमसीएच में डेंगू पीड़ितों का हाल जानने के लिए पहुंचे थे. इसी दौरान एक छात्र ने कुछ मांगों को लेकर अश्विनी चौबे पर स्याही फेंक दी और स्याही फेंक कर छात्र फरार हो गया. उसे सुरक्षाकर्मियों ने पकड़ने की भी कोशिश की, लेकिन वे सफल नहीं हो सके. ये घटना बिहार की राजधानी पटना की है.

बतादें कि मंगलवार को केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे डेंगू के मरीजों को देखने और वार्डों का निरीक्षण करने PMCH पहुंचे थे. निरीक्षण के दौरान ही उनके साथ ये घटना हुई. जिस वक्त अश्विनी चौबे अपनी गाड़ी में सवार होने जा रहे थे, उसी वक्त उन पर स्याही फेंकी गई. जिसके बाद स्याही, मंत्री के शरीर के साथ-साथ गाड़ी पर भी जा गिरी.

इस घटना के बाद अश्विनी चौबे ने कहा कि ये वही लोग है जो अपराध जगत से नाता रखते हैं और किसी जमाने में अपराध के क्षेत्र में काफी आगे थे.

अश्विनी का विवादों से नाता

पिछले महीने पटना में भारी बारिश के बाद अश्विनी चौबे ने कहा था, ‘बिहार में पिछले कुछ दिनों से जो बारिश हो रही है ये हथिया नक्षत्र की बारिश है. हथिया नक्षत्र की बारिश बड़ी ही गंभीर हो जाती है, बारिश ने प्राकृतिक आपदा का रूप ले लिया है. सरकार इससे पूरी तरह निपटने के लिए तैयार है. साथ ही सितंबर में ही बक्सर में एक पुलिस वाले को धमकाते हुए अश्विनी चौबे ने कहा था, ‘आप बताइए, आप एक पदाधिकारी हो, आप दरोगाजी हो, आपके सरकार का राज है. किसी को गुंडा बता देंगे ये गुंडाराज है, जो गुंडा है उसकी तो आप गुंडागर्दी ठीक नहीं करते, वे जो सीधा आदमी है, उसे आप गुंडा बता रहे हैं. नोटिस दे देते हैं. इस नोटिस के बदले आप पर कार्रवाई शुरू कर दें तो आप कहां जाओगे? आपकी वर्दी उतर सकती है. अब आप समझ गए. आपकी वर्दी उतर सकती है.’

About the author

Tarun Phore

न मैं आस्तिक... न मैं नास्तिक...बातें करूं मैं Sarcastic...अपनी अलग दुनिया में मस्त... सवाल पूछना अच्छा लगता है, इसलिए नहीं पत्रकार हूं...इसलिए क्योंकि सवाल तुम्हें भेड़चाल से अलग बनाते है...तभी मैं हर मुद्दे पर बेबाक तरीके से तर्क रखता हूं...बाकि जजमेंटल बिल्कुल नहीं हूं...सोच को दबाता नहीं बल्कि उठाता हूं.

Follow

Advertisement