International Observed

भारत को परमाणु धमकी देने वाले पाकिस्तान के रेल मंत्री की लंदन में कुटाई, अंडे भी फेंके

जम्मू-कश्मीर में धारा 370 हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है. जिसके चलते पाकिस्तान के रेल मंत्री शेख रशीद ने भारत को परमाणु हमले की धमकी दी थी. जिसकी वजह से शेख रशीद की लंदन में जमकर पिटाई की गई. कुछ लोगों ने उन्हें घूंस मारे और उनपर अंडे फेंके

पाकिस्तान मीडिया के मुताबिक, अवामी मुस्लिम लीग के प्रमुख और रेल मंत्री शेख रशीद पर उस वक्त हमला किया गया, जब वे लंदन के एक होटल में एक पुरस्कार समारोह में भाग लेकर निकल रहे थे. वहीं उन पर हमला करने वाले मौके से भाग गए.

इस हमले की जिम्मेदारी पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी से संबद्ध पीपुल्स यूथ ऑर्गनाइजेशन यूरोप के अध्यक्ष आसिल अली खान और पार्टी की ग्रेटर लंदन महिला शाखा की अध्यक्ष समाह नाज़ ने ली है.

रेल मंत्री शेख रशीद ने कुछ दिन पहले ही पीपीपी प्रमुख बिलावल भुट्टो जरदारी के खिलाफ अपशब्द कहे थे. जिसके बाद से पीपीपी यूथ ऑर्गनाइजेशन यूरोप और ग्रेटर लंदन महिला शाखा के सदस्य उनसे नाराज थे. हालांकि उन्होंने रेल मंत्री पर सिर्फ अंडा फेंकने की बात कही है.

दोनों नेताओं ने कहा कि पाक रेल मंत्री शेख रशीद को उनका अहसानमंद होना चाहिए. उन्होंने उनके खिलाफ विरोध जताने के लिए ब्रिटेन में अंडा फेंकने के सभ्य तरीके का ही सिर्फ इस्तेमाल किया. अवामी मुस्लिम लीन ने कहा कि उनके पास इस घटना का कोई वीडियो नहीं है. लेकिन उन्होंने बताया कि उनके संगठन ने शेख रशीद के ऊपर हमला किया था. पार्टी पुलिस में मामला दर्ज कराने पर विचार कर रही है.

बतादें कि कश्मीर से धारा 370 हटाने के बाद शेख रशीद अहमद ने भारत को धमकी दी थी. उन्होंने कहा था कि पीएम मोदी ने इजराइल के तर्ज पर कश्मीर में ये सब किया है और अब इजराइल की तरह कश्मीर में कत्लेआम होगा. रशीद ने भारत को कहा, अगर पाक की सरजमीं पर हमला हुआ तो भारत में ना चिड़िया, ना घास उगेगी ना परिंदे फड़फड़ाएंगे, भारत को उसकी सफाहस्ती से मिटा के रख देंगे. रशीद की लंदन में पिटाई हुई और अंडे भी फेंके गए.

About the author

Tarun Phore

न मैं आस्तिक... न मैं नास्तिक...बातें करूं मैं Sarcastic...अपनी अलग दुनिया में मस्त... सवाल पूछना अच्छा लगता है, इसलिए नहीं पत्रकार हूं...इसलिए क्योंकि सवाल तुम्हें भेड़चाल से अलग बनाते है...तभी मैं हर मुद्दे पर बेबाक तरीके से तर्क रखता हूं...बाकि जजमेंटल बिल्कुल नहीं हूं...सोच को पनपने का मौका देता हूं..